अदरक के फायदे और अदरक के औषधीय गुण

0
1473

अदरक [Ginger] हर एक की रसोई मे होता है । वह बहुत ही गुणकारी होता है । वह कई सब्जी मे पड़ता है ।वह हमे रोज मरा की जिंदगी मे इसका इस्तेमाल करना चाहिए ।अदरक का आचार बनता और वह आचार भी गुणकारी होता है ।इसका और भी कई तरीको से इस्तेमाल होता है ।इसमे कई गुण पाये जाते है । कई बिमारी मे भी फायदा करता है ।इसमे calcium जैसे कई तत्व होते है ।जो कि हमारे शरीर के लिए बहुत जरूरी होते है ।आईये जानते हे इसके फायदे इसका इस्तेमाल कई सोलो पहले से किया आता जा रहा है

अदरक में एक शक्तिशाली गुण है, वो ये है की अदरक एक बेहतरीन एंटीवायरल है। अदरक को आप हर प्रकार से इस्तेमाल कर सकते है, यानी आप ताजा
और सुखा दोनों तरह से उपयोग कर सकते है। हर भारतीय के
किचन में अदरक जरुर मिलेगी। अदरक का स्वाद
तीखा होता है। अदरक सुखी हो, तो इसकी तासीर गर्म
होती है। अदरक अगर गीली हो, तो इसकी तासीर ठंडी
होती है। अदरक को बलवर्धक भी कहा जाता है। अदरक का
उपयोग पेट के रोगों में भी किया जाता है।
 




 

 

कैंसर मे सहायक -वह बिमारी को सुनते ही सभी घबरा जाते है ।वह बिमारी बड़ी नाजुक मोड़ पर ले जाती है इसे बचने के लिए अदरक भी एक अच्छा उपाय है। अदरक में कैंसर जैसी भयानक बीमारी से शरीर को बचाए
रखने का गुण होता है। यह कैंसर पैदा करने वाले सेल्स को
खत्म करता है। एक शोध के हिसाब से अदरक स्तन कैंसर पैदा
करने वाले सेल को बढ़ने से रोकता है।वह सेल बड़ेगे तो वह बिमारी भी बड़ेगी ।इस सेल को रोकने मे वह सहायक है ।

खून पतला -जब हमारा खून पतला हो जाता है तो कई तरह की समस्या हो जाती है । अदरक में खून को पतला करने का नायाब गुण होता है और
इसी वजह से यह ब्लड प्रेशर जैसी बीमारी में तुरंत लाभ के
लिए जाना जाता है।वह बहुत फायदेमंदसाबितहै।

दर्द -वह हमारे दर्द को दूर करनेके लिए बहुत अच्छा उपाय है सभी प्रकार के दर्द से राहत देने की इसकी क्षमता इसे
बहुत ही खास बनाती है। चाहे आपके दांत में दर्द हो या
सिर में- अदरक का ज्यूस बहुत असरकारक है। शोधों के
हिसाब से यह माइग्रेन से बचने में भी आपकी भरपूर मदद
करता है।

पाचन -वह हमारे पाचन क्रिया को ठीक रखने मे मदद करता है । अगर आपको पाचन संबंधी कोई भी समस्या है, तो समझ
लीजिए कि आपकी यह समस्या अब आपको और परेशान
नहीं कर पाएगी। अदरक का ज्यूस आपके पेट में पड़े हुए खाने
को निकास द्वार की तरफ धकेलता है। अदरक का यह
चमत्कारी गुण आपको न केवल पाचन और गैस बल्कि सभी
तरह के पेट दर्द से भी निजात दिलाता है।

गठिया -अदरक के ज्यूस में गठिया रोग को भी ठीक करने की
क्षमता होती है। इसके सूजन को खत्म करने वाले गुण
गठिया और थायराईड से ग्रस्त मरीजों के लिए बहुत
फायदेमंद हैं।

कोलेस्ट्राल – अदरक के ज्यूस के नियमित इस्तेमाल से आप कोलेस्ट्रॉल
को हमेशा कम बनाए रख सकते हैं। यह रक्त के थक्कों को
जमने नहीं देता और खून के प्रवाह को बढ़ाता है और इस
प्रकार हृदयाघात की आशंका से आपको बचाए रखता है।
 



 

 
सर्दी -अदरक को सर्दी से बचाने में सबसे अधिक कारगर माना
जाता है। यह सर्दी पैदा करने वाले बैक्टीरिया को खत्म
करने के साथ-साथ सर्दी फिर से आपको परेशान न कर पाए,
यह भी पक्का करती है।

बाल – अगर आप घने और चमकदार बाल चाहते हैं तो अदरक ज्यूस
का नियमित उपयोग आपकी यह इच्छा पूरी कर सकता है।
इसे आप पी भी सकते हैं और सीधे सिर की त्वचा पर भी
लगा सकते हैं। आपको सिर्फ यह ध्यान रखना है कि आप
शुद्ध ज्यूस सिर पर लगाएं जिसमें पानी की मात्रा बिलकुल
न हो या न के बराबर हो। यह न केवल आपके बाल स्वस्थ बना
देगा बल्कि यह आपको रूसी से भी छुटकारा दिला देगा।

कान का दर्द – ठंडी हवा या कान में मैल जमने से या फिर
फुंसी होने से कान में दर्द हो तो अदरक का रस कपड़े से
छानकर, गुनगुना कर तीन-चार बूंद कान में डालें 3-4 बार। यदि
कान में सांय-सांय कर रहा हो तो थोड़ा-थोड़ा सोंठ, गुड़,
घी मिलकर खाने से ठीक हो जायेगा।

जोड़ों पर दर्द-अदरक को पीसकर जोड़ों पर लेप करें। दर्द ठीक
होगा। 250 ग्राम तिल के तेल में 500 ग्राम अदरक का रस
मिलाकर पकाऐं जब सिर्फ तेल रह जाये तो उसे ठंडा कर
शीशी में भर लें फिर संधि शोध (जोड़ों के दर्द) पर लगाऐं
मालिश करें आराम आयेगा।

सूजन -वह आपकी सूजन कम करेंगे अदरक के ज्यूस में सूजन को कम करने की शक्ति अत्यधिक
मात्रा में होती है और यह उन लोगों के लिए वरदान की तरह है,
जो जोड़ों के दर्द और सूजन से परेशान हैं। एक अध्ययन के मुताबिक
जो लोग अदरक के ज्यूस का उपयोग नियमित तौर पर करते हैं उन्हें
जोड़ों में सूजन और दर्द पैदा करने वाली बीमारियां परेशान
नहीं करतीं। आपके जोड़ों की समस्या नई हो या कई साल
पुरानी- यकीन रखिए कि अदरक का ज्यूस बहुत असरकारी है।
अदरक के ज्यूस में एंटीऑक्सीडेंट्स होते हैं, जो शरीर में ताजे रक्त
के प्रवाह को बढ़ाते हैं, क्योंकि इनमें खून को साफ करने का
खास गुण होता है।
खांसी में फायदेमंद-
अदरक हमेशा से खांसी की बेहतरीन दवा माना जाता है। खांसी
आने पर अदरक के छोटे टुकडे को बराबर मात्रा में शहद के साथ गर्म
करके दिन में दो बार सेवन कीजिए। इससे खांसी आना बंद हो
जाएगा और गले की खराश भी समाप्त होगी।वह बहुत ही उपयोगी साबित हुआ है ।

उलटी के लिए – अगर आपको बार बार उल्टियाँ हो
रही हो तो 1 टुकड़े अदरक को ले कर उसके रस को
निकल लें (लगभग एक चमच्च) और उतनी ही मात्रा में
प्याज का रस मिला कर पिने से उलटी रुक जाती है |कई लंबी यात्रा पर गए तो रास्ते मे भी इसकी आवश्यकता पड़तीहै ।

भूक बढाए – बच्चों को खास कर खाने को ले कर
अक्सर माता पिता को उनके पीछे पड़ना पड़ता है |
अगर बच्चो या बड़ो को भूख कम लगती हो तो,अदरक
को रोजान नमक के साथ खाने से भूख ना लगने की
समस्या से निजात मिलता है |

पेट की समस्या के लिए –सभी बिमारी की जड़ पेट होता है इसलिए कहते है कि पेट खुश तो सब खुश ।हमे पेट का ध्यान रखना जरूरी है ।हम घर से ज्यादा बाहर खाना खाते है जिसके कारण पेट मे कुछ न कुछ समस्या होती है इससे बहुत समस्या होती है ।इसका अच्छा इलाज है अदरक ।वह पेट के लिए बहुत अच्छा उपाय माना जाता है वह पेट की कई समस्या का इलाज है अगर आपके पेट में बार बार
दर्द रहता हो तो अदरक, हिंग, 1/2 चमच्च नींबू का रस
और सेंधा नमक को मिला कर पेस्ट बना लें और उसे
खाया करे, इससे से पेट का पाचन तंत्र सही रहता है
और दर्द भी दूर होता है |अगर पेट की समस्या ठीक हो गयी

ऐसा कही नही कि जहाँ अदरक और शहद नहीं
मिलेगा। आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि अदरक जो
व्यंजन में जायका लाता है और शहद जो जीवन के साथ व्यंजन में
मिठास लाता है वे भी वज़न घटाने में करते हैं मदद। तो गर्मी में
जीम जाकर या कठिन व्यायाम करके पसीना बहाने की क्या
ज़रूरत हैं अदरक और शहद का मिश्रण बनाकर खायें और वज़न में
आए अंतर को देखकर खुश हों।
ये
शरीर से विषाक्त पदार्थ को निकालने में भी मदद करता है। इन
दोनों प्रक्रिया से वज़न घटने की प्रक्रिया जल्दी होने लगती
है। इसके अलावा शहद खाना को हजम करने में और पेट को शांत
करने में भी मदद करता है।
अदरक और शहद का इस्तेमाल कैसे करेंगे?
अदरक के एक छोटे से टुकड़े को पीसकर एक छोटा चम्मच रस
निकाल लें। उसमें एक छोटा चम्मच शहद डालकर अच्छी तरह से
मिला लें। इस मिश्रण को दिन में दो बार लें विशेषकर सुबह उठने
के बाद और रात को सोने के पहले लेना अच्छा होता है।

इसके और उपाय –
कच्चे अदरक को चबाने से या अदरक की चाय पीने से जी
मचलने में आराम मिलता है।
– अदरक के सेवन से मसल्स पेन में आराम मिलता है।
-अदरक के सेवन से कोलोन कैंसर होने का खतरा कम होता है।
-अदरक का रस चेहरे की झाईयों को हटाने में भी काम आता
है। इसके अलावा कई कॉस्मेटिक प्रोडक्ट और सोप बनाने में
भी अदरक यूज़ होता है।
-कभी कभी सीने में दर्द होने, पेट में दर्द होने, लोअर बेक पेन
में भी अदरक के इस्तेमाल से आराम मिलता है।
– जिन लोगों को मॉर्निंग सिकनेस की परेशानी है उन्हें भी
अदरक के इस्तेमाल से लाभ होता है।
-खांसी जुकाम में भी अदरक की चाय या काढ़ा बनाकर
पीने से आराम मिलता है। खांसी ज्यादा हो रही हो तो
अदरक के रस को गुनगुना करके उसमे थोड़ा शहद मिलाकर
चाटना फायदेमंद होता है।
-अदरक के सेवन से कफ से भी निजात मिलती है।
– कान के दर्द को कम करने में अदरक से काफी मदद मिलती
है। दर्द होने पर कपड़े से अदरक का रस छान कर दो-तीन बूंद
तीन-चार बार गुनगुना कर के डालें।
-मुंह की बदबू को दूर करने के लिए अदरक का रस काफी
करगर साबित होता है।
-अदरक का टुकड़ा मुंह में रख कर चूसने से हिचकी धीरे-धीरे
चली जाती है।
– जरा सा अदरक मुंह में रख कर चूसने से भूख भी लगती है।
-काम के दौरान नींद आए तो एक चुटकी सूखा अदरक गरम
पानी में डाल कर पीने से सुस्ती चली जाती है
अदरक का जूस भी काफी कारगर साबित होता है ।वह बहुत ही उपयोगी है ।इसके भी फायदे है ।इसे फायदे –
-पाचन के लिए बेहतर: अदरक का जूस विभिन्न तरह के पाचन
संबंधी समस्याओं में आराम दिलाता है। यह पाचन प्रकिया में
एक सक्रिय तत्व के तौर पर काम करता है।
-कॉलेस्ट्रॉल कम करता है: अदरक का सेवन कॉलेस्ट्रॉल के स्तर
को भी कम करता है। रक्त वाहिका में ब्लॉकेज को दूर करने में
भी मदद करता है, जिससे हृदय रोगियों को मदद मिलती है।
-मुंहासे दूर करता है: यदि आप मुंहासों से छुटकारा पाना चाहते
हैं तो अदरक के जूस का सेवन जरूर करें। यह एक ऐसे तत्व के रूप में
काम करता है जिससे जिससे मुंहासे या पिंपल्स को दूर करने में
मदद मिलती है।
-ठंड से बचाव-इसका जूस ठंड मे बहुत अच्छा होता है । एंटी वायरल और एंटी फंगल गुण होने के चलते
अदरक ठंड, फ्लू आदि से बचाव करता है।
 

 
दांत का दर्द:- महीन पिसा हुआ
सेंधानमक अदरक के रस में मिलाकर दर्द
वाले दांत पर लगाएं।
दांतों में अचानक दर्द होने पर अदरक के
छोट-छोटे टुकड़े को छीलकर दर्द वाले दांत
के नीचे दबाकर रखें।

गला खराब होना:- अदरक, लौंग, हींग
और नमक को मिलाकर पीस लें और इसकी
छोटी-छोटी गोलियां तैयार करें। दिन में
3-4 बार एक-एक गोली चूसें।
 

 
इसका इस्तेमाल नही करना चाहिए ।
इसका प्रयोग ज्यादा नही करना चाहिए वह भी जब गर्मी का मौसम हो तब वह कई समस्या पैदा कर सकता है जब हम इसे ज्यादा खायेंगे ।वह ब्लड ग्लूकोज को धीमा कर देता है । मधुमेह की दवा लेने समय भी नही करना चाहिए ।हमे गर्मी मे इसका इस्तेमाल कम कर देना चाहिए
हम तो सिर्फ वही चाहते है कि आप स्वस्थ रहे ।कोई भी बिमारी हो वह छोटी नही होती । न ही हमे किसी बिमारी से ड़रना चाहिए ।इसलिए एक बार ड़ाकटर से सलाह जरूर ले क्योंकि आप को बिमारी कुछ और होती है और इलाज कुछ और होता है । बस इसका ध्यान रखे और स्वास्थ्य रहे । धन्यवाद ।
 


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here