डेंगू क्या है ? डेंगू बुखार के लक्षण | डेंगू बुखार में क्या खाना चाहिए

डेंगू क्या है ?

डेंगू बुख़ार एक तरह का संक्रमण होता है जो शरीर में हो जाता है जो डेंगू वायरस के कारण होता है। डेंगू का इलाज समय पर करना बहुत जरुरी होता हैं। डेंगू वाले मच्छर वायरस को शरीर में फैलाते हैं। डेंगू से पीड़ित लोगों को इतना अधिक दर्द हो जाता है कि उन्हें लगता है कि उनकी हड्डियां टूट गयी हों। डेंगू का बुख़ार जीवन के लिये खतरा हो सकता है।

 
[alert type=”success” icon-size=”big”]
डेंगू क्या है ?जैतून के तेल के फायदे और नुकसान
डेंगू क्या है ?चुकंदर के फायदे और चुकंदर के नुकसान
डेंगू क्या है ?मूंगफली खाने के फायदे और मूंगफली के गुण
[/alert]
 

डेंगू से जल्दी छुटकारा कैसे पाएं ?

डेंगू से पीड़ि‍त व्‍यक्ति को फिर से मच्‍छर द्वारा कटाने से बचाये। इसके अलावा, यह भी सुनिश्चित करें किे घर में हर किसी की मच्‍छर के काटने के खिलाफ रक्षा की जाये।
 

डेंगू के लक्षण

  • डेंगू का सबसे प्रमुख लक्षण तेज़ बुखार आना है। डेंगू में व्यक्ति को 102-103º F तक बुखार आने लगता है जो की डेंगू में एक आम बात है।
  • डेंगू में ज़्यादातर लोगों के जोड़ों, मांसपेशियों और हड्डियों में बहुत ज्यादा दर्द होता है।
  • डेंगू में बहुत ज्यादा थकावट महसूस होती है क्यों कि यह सीधा हड्डियों पर असर करता है।
  • डेंगू में जी मिचलाना या नौसेअ हो जाता है यह भी डेंगू होने का एक बड़ा लक्षण है। डेंगू होने पर आपको घबराहट महसूस होने लगती है।
  • डेंगू होने पर व्यक्ति के शरीर में छोटे लाल चकत्ते हो जाते हैं। और रैशेस भी होते जाते हैं जिनमे खुजली होती है।
  • ज़्यादातर डेंगू के रोगियों को आँख के पीछे दर्द होता है। यह दर्द आँखों की मूवमेंट से बढ़ता लगता है।

 

इमली का पेड़ कितने दिन में इमली का फल दे देता है

इष्टतम बढ़ती स्थितियों के मुताबिक ऐसे पेड़ आम तौर पर 3 से 4 साल के भीतर फल देंगे। रोपण 6 से 8 वर्षों में फल पैदा करना शुरू कर देना चाहिए, जबकि वनस्पति प्रचारित पेड़ आम तौर पर उस समय आधा हो जाते हैं।

 

डेंगू बुखार में क्या खाना चाहिए ?

  1. डेंगू में सेब खाने से बहुत फायदे होते हैं
  2. सेब के जूस रक्त कोशिकाओं की संख्या बढ़ाने में मदद करता है। सेब का उपयोग डेंगू बुखार में ब्लड की प्लेटलेट की संख्या को बढ़ाने के लिए भी किया जाता है। इसके अलावा सेब प्राकृतिक रूप से एंटीऑक्सिडेंट फल होता है इसलिए इसे ज्यादातर बीमारियों में खाया जाता है।

  3. पपीता डेंगू के रोगियों के लिए फायदेमंद होता है
  4. पपीता डेंगू बुखार के इलाज के लिए एक सबसे अच्छा और कारगर तरीका है। पपीते में विटामिन सी और एंटीऑक्सीडेंट भरपूर मात्रा में होते हैं जो प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में मदद करते हैं। पपीता का उपयोग डेंगू के रोगियों में बुखार के कारण काम हो रही ब्लड प्लेटलेट्स के स्तर में कमी को पूरा करने में मदद करता है।

  5. अमरूद डेंगू के मरीजों के लिए बहुत ही बढ़िया होता है
  6. अमरूद में विटामिन और टैनिन भरपूर मात्रा में होते हैं। अमरूद में विटामिन C भरपूर मात्रा में होता है, जो शरीर की प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ावा देने में मदद करता है। अमरुद ब्लड प्लेटलेट की संख्या को बढ़ाने के लिए बेहतर माना जाता है, इसलिए यह डेंगू के मरीजों के लिए फायदेमंद होता है।

  7. डेंगू के मरीजों के लिए केला खाना लाभदायक होता है
  8. केले में फाइबर भरपूर मात्रा में होता है, जो शरीर में ऊर्जा बनाने में मदद करता है। रोजाना केले का सेवन करने से बीमारी में खोई ऊर्जा को बढ़ाने में मदद मिलती है। डेंगू के रोगियों के लिए केला बहुत अच्छा होता है।

  9. नारियल पानी डेंगू के मरीज़ों के लिए फायदेमंद होता है
  10. नारियल के पानी में बहुत से उच्च स्तर के पौष्टिक तत्त्व होते हैं जो डेंगू के मरीज़ों के लिए फायदेमंद होते हैं। नारियल पानी डेंगू के मरीजों को आवश्यक पोषक तत्व जैसे विटामिन देता है।

  11. डेंगू के इलाज के लिए संतरा बेहतर होता है
  12. संतरे में बहुत से ऐसे तत्त्व होते हैं जो डेंगू के इलाज में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। संतरे में विटामिन सी भरपूर मात्रा में होता है, जो एक महत्वपूर्ण एंटीऑक्सीडेंट है। संतरे में फाइबर भी अच्छी मात्रा में होता है जो अपच के इलाज के लिए महत्वपूर्ण होता है। डेंगू से जल्दी निजात पाने के लिए संतरे को अपने आहार में जरूर शामिल करना चाहिए।

 

डेंगू बुखार में क्या नहीं खाना चाहिए ?

डेंगू बुखार के इलाज के लिए कोई भी निश्चित दवाई अभी तक मौजूद नहीं हैं। इसलिए इसके इलाज के लिए आपको परहेज रखना बहुत जरुरी होता है, क्यों कि यह बीमारी शरीर की प्रतिरोधक क्षमता को खत्म कर देती है इसलिए आपको डेंगू होम पर इन आहारों का सेवन नहीं करना चाहिए।

  • डेंगू बुखार होने पर आपको ज्यादा नमक का सेवन नहीं करना चाहिए इसका ज्यादा इस्तेमाल आपके लिए घातक हो सकता है।
  • डेंगू बुखार में अंडा नहीं खाना चाहिए।
  • डेंगू बुखार में मीट नहीं खाना चाहिए।
  • डेंगू बुखार में चिकनी चीज़ें नहीं खानी चाहिए जैसे बटर, बहार का खाना आदि।
  • डेंगू बुखार में ज्यादा मिर्च-मसाला वाला खाना नहीं खाना चाहिए।
  • डेंगू बुखार में मैदा खाने से परहेज रखना चाहिए।
  • डेंगू बुखार में अल्कोहल का सेवन बिलकुल नहीं करना चाहिए।

 
[alert type=”success” icon-size=”big”]
डेंगू क्या है ?केला (Banana) क्या है ? केला खाने के फायदे और नुकसान | केला खाने का सही समय
डेंगू क्या है ?करेला (Bitter Melon) क्या है ? करेला के फायदे और नुकसान | करेला का वैज्ञानिक नाम
डेंगू क्या है ?खीरा (Cucumber) क्या होता है ? खीरा खाने के फायदे और नुकसान | खीरा का वानस्पतिक नाम
डेंगू क्या है ?अमरूद (Guava) क्या होता है ? अमरूद खाने के फायदे और नुकसान | अमरूद खाने का सही समय
डेंगू क्या है ?पपीता (Papaya) क्या है ? पपीता के फायदे और नुकसान | पपीता खाने का सही समय
डेंगू क्या है ?टमाटर (Tomato) क्या है ? टमाटर खाने के फायदे और नुकसान | खाली पेट टमाटर खाने के फायदे
डेंगू क्या है ?नीबू (Lemon) क्या है ? नीबू के फायदे और नुकसान | नीबू के औषधीय गुण
डेंगू क्या है ?आलू (Potato) क्या है ? आलू के फायदे और नुकसान | आलू के औषधीय गुण
[/alert]
 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here