अमर की सच्ची प्रेम कहानी || लव स्टोरी

4
512

Hindi Real Love Story[ लव स्टोरी ]

एक लड़का था जिसका नाम था अमर। वह किसी लड़की से प्यार करता था। उस लड़की का नाम था मीन। वह लड़की भी अमर को बहुत प्रेम करती थी। इनका प्रेम 11 कक्षा से शुरू हुआ था। अमर उस स्कूल मे काफी समय से पड़ रहा था लेकिन वह जब 11 कक्षा मे हुआ तो एक लड़की आई उसे देखते ही अमर को प्रेम हो गया वह थी मीन। वह पहले दिन तो कुछ बोला नही लेकिन दुसरे दिन वह उससे बात करना चाहता था। वह उसके पास गया और बोला हैलो लेकिन मीन लेकिन मीन ने कोई भी जबान नही दिया।

वह हर रोज कोशिश करता लेकिन कोई फर्क नही पड़ा मीन ने उसे कभी बात नही की लेकिन अमर कोशिश करता रहा। एक बार एक लड़की को कोई तंग करने रहा था अमर से वह देखा नही गया था उसने लड़के को बहुत पीटा। वह लड़का भाग गया।
इस हादसे से उसके जीवन मे एक नया मोड़ आया। वह लड़की मीन ने भी वह सब देख लिया था।

वह चाहती थी कि उसका दोस्त वह बने जो लड़कियाँ का सम्मान करे उनके साथ बुरा न होने दे। वह देखने के बाद वह अमर के पास गयी और बोली मुझसे दोस्ती करोगे। अमर तो पहले से ही वह चाहता था कि वह उससे दोस्ती करे तो फिर क्या अमर ने मीन से हाथ मिलाया और दोस्ती हो गई।



वह अच्छे दोस्त बन गए। वह एक साथ खाना खाते। एक साथ बैठते। साथ साथ रहने लगे। वह दोस्ती गहरी होती गई। वह हर बात एक दुसरे को बताते कुछ छुपाते नही थे।इनकी नजदीकी बढ़ती ही गयी। वह एक दुसरे को प्रेम करने लगे। वह एक दुसरे को चाहने लगे। वह एक दुसरे के लिए कुछ भी करने को तैयार थे। दो साल तक ऐसा ही चलता रहा। वह और ज्यादा प्यार करते लगे। वह अब शादी के लायक हो गये थे। वह सिर्फ एक दूसरे से ही शादी करना चाहते थे। लेकिन उनके परिवार वाले कुछ और चाहते थे। उन दोने के परिवार वाले उनके लिए रिश्ते खोज रहे थे। लेकिन वह जुदा होना नही चाहते थे।

उन्होंने अपने परिवार वालो को मनाने की कोशिश की पर वह बेकार हुई। वह हर रिश्ते को मना कर देते थे। मीन की शादी तय हो गई ।लेकिन वह उदास थी क्योंकि वह अमर से प्रेम करती थी।

तभी एक नया मोड़ आया मीन की शादी से एक दिन पहले ही वह किडनैप हो गई। उसके परिवार वाले ने पुलिस को सूचना दी। अमर से भी पूछताछ हुई। अमर भी चोक गया और रोने लगा वह उदास था।

समय बीत गया मीन को गुम हुए एक वर्ष बीत गया था। लेकिन अभी भी अमर मीन को प्रेम करता था वह उसे याद करता कभी-कभी रोए या भी करता था।



उसे अभी भी लगता था कि वह वापस आएगी। उसके परिवार वाले उसके लिए लड़की खोज रहे थे। दो महीने बाद अमर की शादी तय हो गई और शादी भी हो गई। लेकिन फिर भी वह मीन को याद करता रहता। दो महीने बाद वह घुमने गये। दोनो घुमने गये लेकिन दोनो उदास थे। अमर ने उसे बताया कि मै किसी लड़की से प्यार करता था जिसका नाम मीन था।

वह सुनते ही वह भागी अमर भी उसके पीछे भागा वह भागते गए भागते गए। आगे एक खाई थी भागते भागते वह लड़की उसमे गिर गई अमर भी उसमे गिर गया। नीचे गिरते ही अमर अपनी पत्नी को खोजने लगा। वह मिली लेकिन वह मर चुकी थी अमर रोने लगा कि पहले मीन फिर पत्नी भी चली गयी। रोते हुए उसे एक आवाज सुनाई दी। वह आवाज के पीछे गया और आगे क्या देखा कुछ आदिवासी लोग थे उन्होंने एक लड़की बाध रखी थी। वह मीन थी अमर उसे देख कर बहुत खुश हुआ। वह उसके नजदीक जाने लगा लेकिन फिर अचानक रुक गया।

उसने आदिवासी का ध्यान दुसरी और किया फिर मीन को छुड़ाया और भाग गए दोनो एक दूसरे को देखते कर बहुत खुश हुए। वह मन्दिर मे गये और शादी कर ली। वह खुशी से जीवन गुजारने लगे इनका प्रेम ही था कि वह फिर से मिले।



4 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here