Bluetooth Blueborne Attack Kya hai Full Details in Hindi

3
2036

नमस्कार दोस्तों, मेरा नाम राघव त्रिपाठी है मैं हिंदी से हेल्प का एडमिन हूं। हम यहां पर पूरी कोशिश करते हैं कि आपकी मदद कर पाए और आपको टेक्नोलॉजी के बारे में कुछ जानकारियां दे पा जिससे आप सुरक्षित रहें और अपडेट रहे। यहां पर आप फिल्म ब्लॉगिंग, सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन, टेक्नोलॉजी, हैकिंग आदि के बारे में जानकारी देते है। ताकि आज सिक्योर रह सके। आज हम Bluetooth Blueborne Attack पर बात करेंगे।

दोस्त आजकल Hacking बहुत ज्यादा बढ़ चुकी है चाहे वह इंटरनेट पर हो या ऑफलाइन। लेकिन किस जमाने में हमें हर चीज को जाना पड़ता है ताकि हम सिक्योर रह सके। आज मैं आपको एक ऐसे हैकिंग के टाइप के बारे में बताऊंगा जो शायद आपके लिए बहुत ज्यादा घातक हो सकता है। सबसे पहले तो मैं आपको बता दूं कि इसका नाम Bluetooth Blueborne Attack है।
 

 
यानि अब आप या तो समझ ही गए होंगे कि यह ब्लूटूथ से जुड़ी कोई हैकिंग है। अगर आप इसे हल्के में लेते हैं तो शायद आपकी बहुत बड़ी गलती हो सकती है। यह हैकर्स द्वारा बनाया गया नया अटैक है जिससे आए 3 से 4 महीने ही हुए हैं यह अमेरिका जैसे ज्यादा देशों में खेल रहा था और अब यह भारत में भी फैलने लग गया है।

यह ना केवल हमारे कंप्यूटर, स्मार्ट फोन, आईपैड, iPhone को नुकसान पहुंचा सकता है बल्कि हमारे बहुत सारे गैजेट ऐसे होते हैं जो ब्लूटूथ से चलते हैं जैसे कि वायरलेस हेडफोन या फिर कई सारे प्रोग्राम आदि को भी नुकसान पहुंचा सकता है। यह सब इसलिए क्योंकि वह ब्लूटूथ से काम करते हैं।

यह एक प्रकार का मालवेयर है जिसे बोलते हैं ब्लूटूथ ब्लूबोर्न, ओरी यह डिवाइस जो अटेक करते हैं उसे हम बोल सकते हैं Bluetooth Blueborne Attack. इस अटैक को ब्लूटूथ के द्वारा करवाया जाता है। तो कुछ ओर जानने से पहले यह जानते हैं कि यह नया ब्लूटूथ ब्लूबोर्न अटैक किया कैसे जाता है।
 

 

How Can Bluetooth Blueborne Attack Works in Hindi ? Bluetooth BlueBorne Attack काम कैसे करता है ?

यह हम सभी जानते हैं कि जो कोई नॉर्मल वायरस होता है या फिर जंक होता है उसे जब हम किसी फाइल को डाउनलोड करते हैं तो उसके द्वारा पहुंचाए जाता है या फिर किसी url पर क्लिक करते हैं, कोई ऐरी गैरी वेबसाइट विज़िट करते हैं तो उसके द्वारा पहुंचाया जाता है।

लेकिन यहां पर सिस्टम थोड़ा अलग हो जाता है यहां पर हमें किसी URL पर क्लिक नहीं करना पड़ता है हमें किसी फाइल को डाउनलोड नहीं करना पड़ता है। इसमें हैकर्स हमारे ब्लूटूथ को पकड़ते हैं और उसके द्वारा वायरस या कहे तो खतरनाक मालवेयर स्मार्टफोन, गैजेट आदी के अंदर डाल सकते हैं। क्योंकि सभी डिवाइस में कुछ हो ना हो लेकिन ब्लूटूथ तो रहता ही है चाहे वह एक फीचर फोन ही क्यों ना हो।
 

 
यह डिवाइस कुछ भी हो सकता है जिससे हमारा कंप्यूटर हो, लैपटॉप हो, स्मार्ट फोन और आईफोन, आईपैड हो, या कोई गैजेट हो जैसे वायरलेस इयरफोन, वायरलेस बैंड आदि। आजकल इन सभी चीजों में ब्लूटूथ का इस्तेमाल किया जाता है वायरलेस सिस्टम देने के लिए, और हैकर्स इसी चीज का फायदा उठा रहे हैं।

यहां पर अगर वह हमारा ब्लूटूथ ऑन देखता है तो Successfully उसके अंदर वह यह मालवेयर जो की बहुत खतरनाक है इसे डाल देता है। यह खतरनाक जंक या फिर वायरस उस एक फोन या ब्लूटूथ में जाकर उसके द्वारा अलग अलग जगह, अलग अलग फोनो, अलग-अलग डिवाइस में जाता चला जाता है और एसे करते करते यह फैल जाता है। यानी जो हैकर होगा उसको कुछ नहीं करना पड़ेगा बस उसको एक डिवाइस में चाहे कुछ भी हो उसमें यह वायरस डालना है और उसके बाद यह धीरे-धीरे जैसे ही दूसरे डिवाइस रेंज में आते जाएंगे उनमें वह वायरस डालता जाएगा।
 

 
यानी उदाहण से समझते है मान लीजिए जैसे कि कोई आदमी है उसे किसी तरह की फैलने वाली बीमारी है और वह आदमी किसी अन्य व्यक्ति या फिर उसके दोस्त आदि से मिलने जाता है तो वह दोस्त के पास जाकर कुछ क्रिया करता है जैसे चीख़ता है, खाँसता है.. या फिर वह आदमी कुछ और ऐसा करता है जिससे वह दूसरा आदमी भी बीमारी से ग्रसित हो जाता है उसके बाद वह दूसरा आदमी किसी तीसरे और चौथे आदमी के पास बैठ जाए तो वह भी बीमारी से ग्रसित हो जाता है।

यानी ऐसे करते करते एक आदमी से हजारों से लाखो आदमियों में बीमारी फ़ैल जाती है। इस तरीके से ही है ब्लूटूथ ब्लूबोर्न मालवेयर है जो की बहुत ही खतरनाक है और एक डिवाइस से बहुत सारी डिवाइसों में जा सकता हैं। यानि की इस को फैलाने के लिए बस उसे एक डिवाइस को इंफेक्ट करना है फिर ऑटोमेटिकली वह डिवाइस अन्य डिवाइस को इंफेक्ट करता जाएगा।

यह वायरस या जंक आपके मोबाइल के अंदर जाकर आप किसी और फाइलों को अनलॉक कर सकता है फिर उसके बाद अगर हैकर को लगता है कि यह फाइल आपके बहुत काम की है तथा उसको लोक करके आपसे पैसे मांग सकता है। और बोल सकता है कि अगर तुमने पैसे नहीं दिए तो हम इस फाइल को डिलीट कर देंगे।

जब यह वायरस या फिर कहे तो एक खतरनाक जंक जब सामने आया था तो जो एथिकल हैकर से और बढ़िया है करते है उन्होंने सरकार को साफ बता दिया था और बड़ी-बड़ी कंपनियों को भी बता दिया था जैसे गूगल,माइक्रोसॉफ्ट,IOS आदी को इंफॉर्म कर दिया और कहा कि हमें इस वायरस से बच के रहना चाहिए, यह बहुत ही खतरनाक है।
 

 

Bluetooth Blueborne Attack Se Kaise Bache | How to Safe from Bluetooth Blueborne Attack ?

एक बार अगर यह ब्लूटूथ ब्लू बोर्ड अटैक आपके फोन में कर दिया जाए या फिर आपके ब्लूटूथ पर कर दिया जाए या किसी के गैजेट पर कर दिया जाए तो इससे बचने के लिए हमें कुछ काम करने चाहिए, जो कि बहुत जरूरी है।

सबसे पहले तो हमें उसके मोबाइल के सिस्टम को अपडेट करना चाहिए जिससे कि ब्लूटूथ वगैरह भी अपडेट हो जाता और जंग क्लियर हो जाते हैं लेकिन अगर मोबाइल में अपडेट नहीं आ रहा तो आप मुश्किल में पड़ सकते हैं लेकिन अगर मोबाइल अपडेट हो रहा हो किसी भी तरीके से, तो पूरी कोशिश करें कि मोबाइल अपडेट हो जाए।

दूसरा तरीका यह है कि आप अपने फोन के सेटिंग में जाकर ऐप्स में जाकर ब्लूटूथ का सिस्टम चुनर उसका केच और डेटा दोनों क्लियर कर सकते हो और आप अपने ब्लूटूथ का नाम वगैरह भी चेंज कर ले इससे हो सकता है कि आप का वायरस भी हाथों हाथ ही क्लियर हो जाए और वह किसी और फोन या डिवाइस में आ जाए।

तीसरा, आखरी और सबसे वर्किंग तरीका है अपने फोन को हार्ड रिसेट कर ले क्योंकि आपके फोन को रिसेट करने के बाद वह एकदम नया हो जाता है. बाहर से नहीं लेकिन अंदर से वह बिल्कुल नया हो जाता है और उसका सिस्टम जैसा के शुरू में आया था वैसा हो जाता है ऐसा करने से आपके ब्लूटूथ के वायरस और जंक भी क्लीयर हो जाएंगे लेकिन अगर आप उस का बेकअप वापस लेते हैं यानी बेकअप जो आपने पहले किया था उसे वापस डालते हैं तो फिर से आपके मोबाइल में वायरस आ जायेंगे इसलिए आप बेकअप नहीं ले तो अच्छा है।

दोस्तों मैं तो पूरी उम्मीद करता हूं कि आपको यह पोस्ट अच्छी तरीके से समझ में आया होगा और आप जान गए होंगे कि यह ब्लूटूथ वायरस कितना खतरनाक है और इससे कैसे बचा जा सकता है। अगर आपको यह जानकारी सच में फायदेमंद लगी तो कृपया इसे सोशल मीडिया पर शेयर करके अपने दोस्तों को भी इसके बारे में जानने में मदद करें ताकि भविष्य सिक्योर रह सके.। तब तक के लिए वंदे मातरम.
 

 

3 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here