Super Computer क्या है ? Super Computer की पूरी जानकारी हिंदी में

आज का जमाना पूरी तरह से टेक्निकल हो चुका है। इस जमाने में हम किसी को काम को टेक्नोलॉजी की मदद से आसानी से कर सकते है, चाहे वह कितना ही मुश्किल क्यों न हो। इस विकसित दुनिया का श्रेय अगर किसी को दिया जा सकता है तो वह Computers ही है। Computer एक नही बल्कि कई प्रकार के होते हैं। इनमे से एक Super Computer भी होता है। आज के इस पोस्ट में हम इसी बेहतरिन कंप्यूटर प्रणाली सुपर कंप्यूटर के बारे में जानेंगे और जानेंगे की ‘सुपर कंप्यूटर क्या है और सुपर कंप्यूटर के बारे में पूरी जानकारी’, तो चलिए आगे बढ़ते हैं और जानते हैं कि Super Computer क्या है ?
 

 

सुपर कंप्यूटर क्या है? What is Super Computer in Hindi

कंप्यूटर एक बेहद ही जरूरत वाला उपकरण है। इसी जरिये हम कई सारे काम घर बैठे कर सकते है। लेकिन काम बड़ा हो जिसके लिए हम सुपर परफॉर्मेंस की जरूरत हो। या फिर हमारे पास कोई कंपनी हो और हमे एक Solid Performance वाले Computer की जरूरत हो तो आप यह जरूरत अपने Basic Computer से तो पूरा कर नही सकते, अब आपको कुछ एडवांस चाहिए होगा। इसी एडवांस की Need को पूरा करने के लिए Super Computer को बनाया गया।

अगर एक सरल परिभाषा दी जाए Super Computer की तो वह यह होगी की ‘एक सुपर कंप्यूटर एक हाई लेवल का कंप्यूटर होता है जो की काफी शानदार परफॉर्मेन्स देता है एक जनरल परफॉर्मेन्स कंप्यूटर से’। इसे सरल भाषा में कहा जाए तो ‘सुपर कंप्यूटर किसी बेसिक काम के लिए उपयोग किये जाने वाले कंप्यूटर से बेहतर होता है और अधिक अछि परफॉर्मेन्स देता है।
 

 

सुपर कंप्यूटर के बारे में पूरी जानकारी हिंदी में – Details About Super Computer in Hindi

सुपर कंप्यूटर की Performance को Floating-Point Operations प्रति सेकंड माप जाता है जबकि अन्य कंप्यूटर की Performance लगभग प्रति सेकंड लाखो Instructions के हीसाब से नापी जाती है। 2017 के रिकॉर्ड के अनुसार तो अब तक ऐसे Super Computer भी है जो की लगभग सौ quadrillion FLOPS तक भी कर सकते है। इससे आप Super Computer की परफॉर्मेन्स का पता आसानी से लगा सकते हो।

2017 के नवम्बर में आयी एक रिपोर्ट के अनुसार सबसे फ़ास्ट 500 Super Computers Linux पर आधारित ऑपरेटिंग सिस्टम पर ही चलते है। ज्यादा Power वाले और ज्यादा बेहतर टेक्नोलॉजी वाले Exascale Supercomputers को बनाने के लिए USA, China, European Union, Japan और Taiwan में तेजी से शोध की जा रही है।

Computers की दुनिया में Super Computer एक महत्वपूर्ण भूमिका रखते है जो की काफी सारे Heavy कामो के लिए खूब उपयोग किये जाते है। इन हैवी काम वाली fields में से Quantum Mechanics, Weather Forecasting और Climate Research जैसी फील्ड्स गिने जाते है जिनमे Super Computer का ही उपयोग किया जाता है।
 

 

सुपर कंप्यूटर का इतिहास – History of Super Computer

Super Computer को सबसे पहले 1960 के दशक में सामने लाया गया और इसके बाद इसके कुछ अगले दशकों में इसे और भी फ़ास्ट और बेहतर बनाया गया जिसका श्रेय Seymour Cray को ही दिया जा सकता है जिन्होंने Control Data Corporation, Cray Research और अन्य उनके नाम की कंपनी के द्वारा इसे और भी तेज किया गया।

उस समय यह एक पुरानी और थोड़ी अजीब सी दिखने वाली एक बेहतरीन मशीन या कहे तो कंप्यूटर थी जो की अन्य से बेहद ही Fast थी और Performance के मामले में बेहतरीन है। 1960 के ही दशक में उन्होंने Parallelism के बढ़ते Amount को जोड़ना शुरू कर दिया 1 से 4 प्रोसेसर काफी Normal थे।

कंप्यूटर के इस बेहद एडवांस टाइप में और भी विकास होता गया और 1970 के दशक से डेटा के बड़े Array पर चल रहे Special Mathematical Units के साथ Vector Computing Concept पर Dominate हो गई। इसका एक शानदार Example ‘Cray-1’ है। 1960 के दशक से ही इन Vector Computer के Design बन रहे थे और तब से आज तक हजारों off-the-shelf processors के साथ बड़े पैमाने पर स्टैण्डर्ड Parallel Supercomputer बन चुके है।

अमेरिका काफी लंबे समय से Super Computer के Field में आगे रहा है। पहले तो Cray के Field के लगभग Uninterrupted Dominance के माध्यम से और बाद में विभिन्न Tech कंपनियों के माध्यम से अमेरिका को इस फील्ड सबसे में आगे रहने में मदद मिली। Technology के फील्ड में जापान का Interest बढ़ रहा था और Japan ने 1980s और 1990s में इस Field में प्रमुख कदम उठाए लेकिन तब तक China इस फील्ड में काफी Fastly Active हो गया था और काफी रुचि के साथ Super Computer का निर्माण कर रहा था।

1960 में Sperry Rand ने US Navy Research and Devlopment Center के लिए Livermore Atomic Research Computer (LARC) को बनाया था जिसे आज दुनिया के First Super Computer का दर्जा दिया गया है। यह अभी भी Newly Emerging Disk Drive Technology की बजाय High-Speed Drum Memory का Use करता है।

तो यह थी Super Computer के बारे में वह सारी जानकारी जो आपको होनी चाहिए लेकिन क्या आप भारत के Super कंप्यूटर इतिहास के बारे में जानना चाहते हो, अगर हा, तो जानते है!
 

भारत और सुपर कंप्यूटर – History of Super Computer in India

वैसे तो आज के समय में दुनिया भर में काफी सारे सुपर कंप्यूटर है लेकिन भारत के पहले सुपर कंप्यूटर की तो बात ही अलग थी क्योंकि इसे हमारे देश के वैज्ञानिकों ने ही अपने शानदार टेलेंट के जरिये बनाया था।

हम सभी जानते है की ज्यादातर आविष्कार अमेरिका जैसे देशों में ही होते है। सुपर कंप्यूटर का अविष्कार भी अमेरिकी कंपनी ने ही किया था। यह Cray नाम की कंपनी अभी भी दुनिया की सबसे बेस्ट Super Computer निर्माता कंपनी है।

जब 1980s में भारत ने इस कंपनी से Super Computer खरीदने की इच्छा की तो इस कंपनी ने भारत का प्रस्ताव ठुकरा दिया जिसका कारण अमेरिकी सरकार को मन जाता है। इसके 2 कारण माने जाते है जिसमे से पहला कारण यह है ई कस कंप्यूटर का इस्तेमाल परमाणु हथियार बनाने के लिए भी किया जाता था इसलिए अमेरिकी सरकार नही चाहती थी की भारत ऐसे खतरनाक हथियार तैयार करे और दूसरा कारण यह है की अमेरिकी सरकार तकनीकी के मामले में भारत को अपने बराबर नही देखना चाहती थी।

लेकिन इसके बाद भारत के कुछ ऐसे वैज्ञानिक भी थे जिन्हें काफी जोश आ गया। इसके चलते अब उन्होंने मन ही मन ठान लिया था की वह अपने देश का सुपर कंप्यूटर बनाकर ही रहेंगे वो भी भारतीय तकनीक से। इसके बाद 1980 में ही भारत का Super Computer Programme चालू हो गया

1988 में सरकार ने पुणे में Department of Electronics ने C-DAC यानी की Centre for Development of Advanced Computing, India स्थापना की। C-DAC को 3 साल का समय मिला और शुरू में 30 करोड़ रुपये का फंड मिला और यह बिल्कुल उतना ही था जितना की अमेरिका की कंपनी Cray को एक Super Computer के लिए भारत दे रहा था। हमारे काबिल वैज्ञानिको ने केवल 3 साल में ही PARAM 8000 नामक सुपर कंप्यूटर का प्रोटोटाइप बना लिया गया।

इस प्रोटोटाइप ने लगभग दुनिया के सभी Super Computer को पीछे छोड़ दिया और पूरे विश्व में अमेरिका के बाद दूसरा स्थान एक बैंच मार्क शो में प्राप्त क़िया। 1991 में हमारा पूर्णतया स्वदेशी तकनीक से निर्मित PARAM 8000 तैयार हो ही गया। इस सुपर कंप्यूटर में 64CPU थे जिसकी वजह से यह उस समय के सबसे शानदार सुपर कंप्यूटर में से एक था।

तो दोस्तो, उम्मीद करता हु की आपको हमारा यह सुपर कंप्यूटर से जुड़ा हुआ पोस्ट पसंद आया होगा जिसमे हमे सुपर कंप्यूटर से जुड़ी हुई कई सारी जानकारिया मिली। इस पोस्ट को सोशल मीडिया पर शेयर करना न भूले।

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here