एलोवेरा (Aloe Vera) क्या है ? एलोवेरा के फायदे और नुकसान | एलोवेरा के औषधीय गुण

एलोवेरा (Aloe Vera) क्या है ?

एलोवेरा को हम घृत कुमारी भी कह सकते हैं, इसे ग्वारपाठा के नाम से भी जाना जाता है एलोवेरा एक औषधीय के रूप में बहुत लोकप्रिय है यह पौधा सबसे पहले उत्तरी अफ्रीका में पाया गया था। यह प्रजाति विश्व के बहुत से स्थानों में नहीं पायी जाती पर यह उत्तरी अफ्रीका में बहुत पाये जाते हैं। इसे पूरे विश्व ने एक औषधीय पौधे के रूप में मान्यता दी है औषधीय पौधे का वर्णन प्राचीन ग्रंथों में भी है और इस प्रजाति के पौधों का उपयोग बहुत पहले से औषधि के रूप में किया जा रहा है। इसका वर्णन आयुर्वेद में मिलता है। एलोवेरा को पूरे विश्व में उगाया जाता है। एलोवेरा को चीन, भारत, पाकिस्तान और दक्षिणी यूरोप के विभिन्न भागों में सत्रहवीं शताब्दी में लाया गया था।

एलोवेरा के अर्क का प्रयोग बड़े स्तर पर सौंदर्य बढ़ाने के रूप में किया जाता है, और इस औषधि की बहुत सी क्रीम मार्किट में मिल जाती है एलोवेरा रक्त साफ़ भी करता है। वज्ञानिकों द्वारा परिक्षन में यह पाया गया कि एलोविरा और मशरूम का उपयोग एड्स रोगियों के लिए बहुत लाभदायक होता है। ऐलोवेरा जेल को सबसे स्किन के लिए सबसे अच्छा जेल माना जाता है। त्वचा को सुन्दर बनाने के लिए लोग ऐलोवेरा का उपयोग करते हैं।

एलोवेरा का पौधा बिना तने का और एक गूदेदार और रसीला पौधा होता है इसकी पत्तियां का रंग, हरा, हरा और स्लेटी और कुछ पत्तों पर सफेद धब्बे भी होते हैं। एलोवेरा के पौधे पर गर्मी के मौसम में पीले रंग के फूल भी आते हैं।

 

 

एलोवेरा/घृतकुमारी का वैज्ञानिक नाम क्या है ?

एलोवेरा का वैज्ञानिक नाम ‘Aloe Vera’ है और एलोवेरा का वानस्पतिक नाम एलो बारबाडेन्सिस मिलर(Aloe barbadensis miller)है। और यह Asphodelaceae (Liliaceae) परिवार से संबंधित है।

एलोवेरा के फायदे

  1. एलोवेरा इम्यूनिटी सिस्टम को सही करता है
  2. इम्यूटी बूस्ट करने में एलोवेरा बहुत कारगर साबित होता है। एलोवेरा में ऐसे तत्त्व होते है जो हमारे शरीर का इम्यून सिस्टम बूस्ट करते हैं जिससे हमें बीमारी से लड़ने की ताकत मिलती है।

  3. एलोवेरा कब्ज से राहत दिलाता है
  4. एलोवेरा का रस पीने से पेट आंत में सूजन संबंधी विकारों में सूजन को कम करता है। इसके अलावा, यह आंतों में स्वस्थ बैक्टीरिया बढ़ता है जो कब्ज से राहत दिलाते हैं।

  5. एलोवेरा त्वचा के लिए बहुत फायदेमंद है
  6. एलोवेरा त्वचा को स्‍वस्‍थ्‍य और सुंदर बनाये रखने में बहुत कारगर साबित होता है। एलोवेरा त्वचा के स्वास्थ्य के लिए बहुत ही लाभदायक है। यह त्वचा से मृत कोशिकाओं को हटाता है और साथ ही इसमें एंटी-बैक्टीरिया, जो मुहासों और झुर्रियों से छुटकारा पाने में भी मदद करता है। यह त्वचा को मॉइस्चराइज करने में भी मदद करता है।

  7. एलोवेरा कैंसर को ख़तम करने में मदद करता है
  8. एलोवेरा में एमोडिन, एंथ्रेसीन कैंसर को ख़तम करने में मदद करते हैं। ऐलोवेरा में पॉलीफेनॉल भी होता है जो मानव शरीर में कैंसर की वृद्धि को रोकने में मदद करता है। इसमें एमोडिन होता है जो त्‍वचा के कैंसर को विकसित होने से रोकने में मदद करता है। इसके अलावा कीमोथेरेपी के प्रभाव को बढ़ाने के लिए भी इसका इस्तेमाल कर सकते हैं।

  9. एलोवेरा मूत्र संबंधी रोगों के लिए अच्छा होता है
  10. मूत्र संबंधी रोग हो या गुर्दों की समस्या से ग्रसित रोगी के लिए एलोवीरा एक रामबाण औषधि है। एलोवेरा का रस सुबह शाम पीने से आपको मूत्र संबंधी रोग में फायदा होगा। और साथ ही आप एलोवेरा के गूदे का सेवन भी कर सकते हैं।

  11. एलोवेरा थायराइड की बीमारी में फायदेमंद होता है
  12. थायराइड की बीमारी में आप एलोवेरा का सेवन कर सकते हैं। एलोवेरा के भीतर प्राकृतिक अवयव विरोधी भड़काऊ क्षमता होती है। एलोवेरा को प्रकृति द्वारा बहुत ही बुद्धिमान ढंग से डिजाइन किया गया है क्यों कि इसमें 99% शुद्ध ऊर्जा वाला पानी है जिसमें विटामिन, खनिज, एंजाइम, एमिनो एसिड और चमत्कार सुपर शर्करा सहित 75 से अधिक महत्वपूर्ण तत्व शामिल हैं। यदि आप अपनी प्रतिरक्षा प्रणाली समेत अपने समग्र स्वास्थ्य और कल्याण को बेहतर बनाने के लिए एक आसान तरीका ढूंढ रहे हैं, तो एलोवेरा आपके लिए उपयोगी सेलुलर पोषण का एक शक्तिशाली माध्यम है। थायराइड की समस्या हाइपरथायरायडिज्म में एलोवेरा आपको इस तरह से आश्चर्यचकित करते हैं। यह आपके पाचन तंत्र को साफ और समर्थन करता है और आपकी ऊर्जा को बढ़ाता है और साथ ही आपकी त्वचा को हाइड्रेट करता है और आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को सही रखता है।

 

एलोवेरा के नुकसान

  • एलोवेरा का जूस पीने से आपके ब्लड शुगर का लेवल कम हो सकता है। इससे आपको परेशानी आ सकती है।
  •  

  • प्रेगनेंट महिलाओं को एलोवेरा से बहुत दूर रहना चाहिए क्योंकि इससे प्रेगनेंट महिलाओं में यूटेराइन कॉन्ट्रैक्शन हो सकता है। इससे बच्चे पर दुष्प्रभाव पड़ सकता है।
  •  

  • एलर्जी की परेशानी से घिरे लोगों को एलोवेरा जूस का सेवन नहीं करना चाहिए क्यों कि इसे पीने से एलर्जिक रिएक्शंस हो सकती हैं खुजली, सांस लेने में दिक्कत, चेहरे की सूजन आदि।
  •  

  • किडनी के रोगियों को एलोवेरा जूस का सेवन बहुत कम करना चाहिए नहीं तो यह किडनी पर खराब प्रभाव डाल सकता है।
  •  

  • गैस की बीमारी वाले लोगों को एलोवेरा जूस नहीं पीना चाहिए क्यों कि इसे पीने से लूज मोशन, पेट दर्द जैसी समस्याएं हो सकती हैं।

 

एलोवेरा जूस किस समय और कितना लेना चाहिए ?

एलोवेरा जूस ठंडा होता है। इसलिए इसको पीने से स्किन और बालों को बहुत लाभ पहुँचता है। यह शरीर का इम्यूनिटी सिस्टम दुरुस्त रखने में भी मददगार होता है।

एलोवेरा जूस पीने का सही समय सुबह खाली पेट फ्रेश होने के बाद पानी के साथ 10 से 20 मिली. लेना चाहिए इससे बहुत फायदा होता है। ठंडा होने की वजह से इसे सर्दी के मौसम में नहीं पीना चाहिए, क्योंकि कई बार इससे गले में खराश, खांसी और सीने में दर्द की शिकायत भी हो सकती है।

 

एलोवेरा में कोनसे पोषक तत्व होते हैं ?

240 ग्राम एलोवेरा में:

  • 36 किलोकैलोरी कैलोरी होती है
  • 230.95 ग्राम पानी होता है
  • 36 किलोकैलोरी एनर्जी होती है
  • 0.05 ग्राम ऐश होती है
  • 9 ग्राम कार्बोहायड्रेट होते हैं
  • 9 ग्राम शुगर होती है
  • 19 मिलीग्राम कैल्शियम होता है
  • 0.36 मिलीग्राम आयरन होता है
  • 19 मिलीग्राम सोडियम होता है
  • 9.1 मिलीग्राम विटामिन सी (Ascorbic acid) होता है
  • 0.82 ग्राम प्रोटीन होता है
  • 0.28 ग्राम फैट होता है
  • 0.008 ग्राम सैचुरेटेड फैट होता है
  • 0.014 ग्राम मोनौंसतुरतेड़ फैट होता है
  • 0.042 ग्राम पॉलीअनसेचुरेटेड फैट होता है
  • 0 मिलीग्राम कोलेस्ट्रॉल होता है
  • 0.5 ग्राम फाइबर होता है
  • 280 मिलीग्राम पोटैशियम होता है

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here