मुनक्का खाने के फायदे – मुनक्का के लाभ

0
36039

मुनक्का(Raisin) यानी बड़ी दाख को आयुर्वेद में एक औषधि माना गया है बड़ी दाख यानी मुनक्का छोटी दाख से अधिक लाभदायक होती है आयुर्वेद में मुनक्का को गले संबंधी रोगों की सर्वश्रेष्ठ औषधि माना गया है मुनक्का हमें न केवल बीमारियों से दूर रखता है बल्कि शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को भी बढ़ाता है।किशमिश को पानी में कुछ देर भिगोकर रखने और फिर उसे सुखाने के बाद किशमिश की स्थिति को ही मुनक्का का नाम दिया गया है. इसकी प्रकृति या तासीर गर्म होती है।ये कई रोगों की दवाई के रूप में इस्तेमाल किया जाता है. इसीलिए इसका औषध में विशेष स्थान माना जाता है. इसमें पाए जाने वाले अनेक गुण हमें बिमारियों से दूर रखने मे मदद करते है ।इसका प्रयोग करने से प्यास शांत हो जाती है व यह गर्मी और पित्त को ठीक करता है | यह पेट और फेफड़ों के रोगों में भी बहुत लाभकारी है ।सूखे मेवे बहुत शक्तिवर्द्धक होते हैं। प्रोटीन से भरपूर सूखे मेवों में फाइबर, फाइटो न्यूट्रियंट्स एवं एन्टी ऑक्सीडेण्ट्स जैसे विटामिन ई एवं सेलेनियम की बहुलता होती है। मुनक्का खाने में जितना स्वादिष्ट है। उतना ही सेहत के लिए फायदेमंद भी है।
 




 

1-सर्दी-जुकाम होने पर रात को सोने से पहले दूध में 2-3 मुनक्के उबालकर लें- यदि सर्दी-जुकाम पुराना हो गया हो तो सप्ताहभर यह दूध पीते रहें- मुनक्के में आयरन अधिक होता है, जिससे शरीर में हीमोग्लोबिन की मात्रा बढ़ती है- सर्दी-जुकाम होने पर सात मुनक्का रात्रि में सोने से पूर्व बीज निकालकर दूध में उबालकर लें।

2-आँखों की रौशनी -मुनक्का खाने से आँखों की रौशनी तेज़ होती है. मुनक्का को पानी में भिगोकर रख दें और सुबह उठकर अच्छे से चबायें. आँखों की रौशनी को तेज़ करता है और जलन भी दूर होती है।

3-शरीर पुष्ट बनाने के लिए -दिन में 8 से 10 मुनक्का का सेवन रोज़ करें. ऐसा करने से शरीर हष्ट पुष्ट बना रहता है और शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता भी बढ़ जाती है।

4-गले के लिए – 8 से 10 मुनक्का रात को पानी में भिगोकर रख दें. अगले दिन सुबह भीगे हुए मुनक्का को नाश्ते में लें. इसके अलावा सुबह और शाम 5 से 6 मुनक्का खायें. इसके लगातार प्रयोग से गले की खराश और नजले से आराम मिलता है. इस उपाय को आप हफ्ते में दो से तीन दिन अवश्य अपनाएँ।

5-खून साफ होता हैशाम को सोते समय लगभग 10 या 12 मुनक्का को धोकर पानी में भिगो दें। इसके बाद सुबह उठकर मुनक्का के बीजों को निकालकर इन मुनक्कों को अच्छी तरह से चबाकर खाने से शरीर में खून बढ़ता है। इसके अलावा मुनक्का खाने से खून साफ होता है ।

6-मुनक्के में कैल्शियम भरपूर मात्रा में पाया जाता हैं, जिस कारण मुनक्का खाने से आपकी हड्डियाँ मजबूत बनती हैं। यह आपको गठिया, ऑस्टियोपोरोसिस जैसी समस्याओं से बचने में आपकी सहायता करता हैं। इसलिए हड्डियों से जुड़ी परेशानियों से बचने के लिए आपको मुनक्का जरूर खाना चाहिए।

7-एसिडिटी कम करें
मुनक्‍के में पोटेशियम और मैग्‍नीशियम भरपूर मात्रा में होता है। यह अम्‍लता को कम करने और सिस्टम से विषाक्त पदार्थों को दूर कर किडनी स्‍टोन, दिल की बीमारियों और गाठिया जैसी बीमारियों को दूर करने में मदद करता है।

8-एनीमिया को दूर करने में मददगार
मुनक्‍के में मौजूद आयरन और साथ ही बी कॉम्‍लेक्‍स विटामिन एनीमिया के इलाज में मदद करते है। मुनक्‍के में मौजूद कॉपर लाल रक्त कोशिकाओं के उत्पादन में मदद करता है।

9-मुंह और दांतों की देखभाल
मुनक्‍के में मौजूद ओलेक्नोलिक एसिड, फाइटोकेमिकल्स में से एक है, यह आपके दांतों को क्षय और कैविटी से सुरक्षित रखता है। इसमें भरपूर मात्रा में कैल्शियम भी होता है। साथ ही मुनक्‍का दांतों में बैक्‍टीरिया की वृद्धि को रोकता है। इसके अलावा मुनक्‍के में मौजूद बोरान मुंह में रोगाणु के निर्माण को कम करता है।

10-बालों के स्‍वास्‍थ्‍य के लिए
मुनक्‍के में विटामिन सी की एक बड़ी मात्रा होती है। यह मिनरल के अवशोषण में मदद करने के साथ शरीर को पोषण प्रदान करता है। इस तरह से यह बालों के प्राकृतिक रंग को बनाए रखने में मदद करता है।

11- भूख बढाने के लिए – मुनक्का, नमक, कालीमिर्च इन सबको गर्म करके खाने से भूख बढ़ती है। पुराने बुखार में जब भूख नहीं लगती हो तो यह प्रयोग लाभदायक रहता है।

12-फेफड़ों के रोग-मुनक्का के ताजे और साफ 15 दानों को, पानी में साफ करके रात में 150 मिलीलीटर पानी में भिगों दें। सुबह बीज निकालकर उन्हें 1-1 करके खूब चबा-चबाकर खा लें। बचे हुए पानी में थोड़ी सी चीनी मिलाकर या बिना चीनी मिलाएं ही पी लें। इसे लगतार एक महीने तक सेवन करने से फेफड़ों की कमजोरी और विषैले मवाद नष्ट हो जाते हैं।

13-मुंह के छाले-पानी में मुनक्का के 8 से 10 दाने रात को भिगोकर रख दें। सुबह मुनक्का फूल जाने पर इसे चबा-चबाकर खायें। रोज सुबह इसको खाने से मुंह के छाले व जख्म ठीक हो जाते हैं।

दूध और मुनक्का – एक गिलास दूध में 8 से 10 मुनक्का उबालें और इसमें एक चम्मच घी डालकर सुबह शाम पियें. इससे शरीर के, ह्रदय के, आँतों के रोग तथा खून के रोगों से आराम मिलता है।

-खून बढ़ाने में – रात को सोने से पहले 10 मुनक्का पानी में भिगोकर रख दें. सुबह इसको दूध के साथ मुनक्का उबाल लें. हल्का ठंडा करके पियें खून बढ़ जाता है. मुनक्का को अच्छे से चबा चबाकर खायें इससे खून बढ़ने लगता है. अच्छा परिणाम पाने के लिए एक से दो हफ्ते तक खायें।

-5 मुनक्के लेकर उसके बीज निकल लें , अब इन्हें तवे पर भून लें तथा उसमें कालीमिर्च का चूर्ण मिला लें | इन्हें कुछ देर चूस कर चबा लें ,खांसी में लाभ होगा |

-बच्चे यदि बिस्तर में पेशाब करते हों तो उन्हें 2 मुनक्के बीज निकालकर व उसमें एक-एक काली मिर्च डालकर रात को सोने से पहले खिला दें , यह प्रयोग लगातार दो हफ़्तों तक करें , लाभ होगा।

-जिनका ब्लडप्रेशर कम रहता है उन्हें हमेशा अपने पास नमक वाले मुनक्का रखना चाहिए यह ब्लडप्रेशर को सामान्य करने का सबसे आसान उपाय है।

-प्यास अधिक लगना: थोड़ी-थोड़ी देर पर प्यास लगने व पानी पीने के बाद भी प्यास लगे। तो इस प्रकार के प्यास में बिना बीज के 4 मुनक्का मिश्री के साथ दिन में 2 से 3 बार लें।

-चेहरे की चमक का बढ़ना: अंगूर, किशमिश, मुनक्का में लौह तत्व (आयरन) की मात्रा ज्यादा होने के कारण ये खून में लाल कणों (हेमोग्लोबिन) को बढ़ाते हैं तथा रंग को निखारते हैं।

-पुराने बुखार के बाद जब भूख लगनी बंद हो जाए तब 10 -12 मुनक्के भून कर सेंधा नमक व कालीमिर्च मिलाकर खाने से भूख बढ़ती है ।
– यदि किसी को कब्ज़ की समस्या है तो उसके लिए शाम के समय 10 मुनक्कों को साफ़ धोकर एक गिलास दूध में उबाल लें फिर रात को सोते समय इसके बीज निकल दें और मुनक्के खा लें तथा ऊपर से गर्म दूध पी लें , १इस प्रयोग को नियमित करने से लाभ स्वयं महसूस करें । इस प्रयोग से यदि किसी को दस्त होने लगें तो मुनक्के लेना बंद कर दें ।
– मुनक्के के सेवन से कमजोरी मिट जाती है और शरीर पुष्ट हो जाता है ।
-4-5 मुनक्के पानी में भिगोकर खाने से चक्कर आने बंद हो जाते हैं ।
-भूने हुए मुनक्के में लहसुन मिलाकर सेवन करने से पेट में रुकी हुई वायु (गैस) बाहर निकल जाती है और कमर के दर्द में लाभ होता है।
-बुद्धि का विकास कम होना: रोजाना 2 ग्राम मुनक्का (बीज रहित) और मिश्री को गर्म दूध के साथ खाने से बुद्धि का विकास तेजी से होता है।
-10 -12 मुनक्के धोकर रात को पानी में भिगो दें | सुबह को इनके बीज निकालकर खूब चबा -चबाकर खाएं , तीन हफ़्तों तक यह प्रयोग करने से खून साफ़ होता है तथा नकसीर में भी लाभ होता है |
-5 मुनक्कालेकर उसके बीज निकल लें , अब इन्हें तवे पर भून लें तथा उसमें काली मिर्च का चूर्ण मिला लें । इन्हें कुछ देर चूस कर चबा लें ,खांसी में लाभ होगा।
-मुनक्का में आयरन की मात्रा अधिक होने के कारण यह खून के लाल कण को बढ़ाता है अत: रंग गोरा होता है।
-चेचक: चेचक के रोगी को दिन में कई बार 2-2 मुनक्का या किशमिश खिलाने से बहुत लाभ होता है।
-हृदय, आंतों और खून के विकार दूर हो जाते हैं। यह कब्जनाशक है।

इसका ज्यादा मात्रा मे प्रयोग नही करना चाहिए खासकर गर्मी मे । चिकित्सक से सलाह भी ले। इसके अलावा इसके अनेक फायदे है । वह एक बहुत अच्छी चीज है इसका इस्तेमाल करे और स्वस्थ रहे । धन्यवाद ।

 


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here